*निगम आयुक्त तथा महापौर निगम को संभाल नहीं पा रहे हैं – शिव वर्मा*

*▶️ सफाई कर्मचारी व निगम कर्मचारी वेतन के लिए आंदोलन और अपने पदोन्नति को लेकर आमरण अनशन पर*

*राजनांदगांव।* नगर निगम के पूर्व निगम अध्यक्ष शिव वर्मा ने निगम प्रशासन तथा महापौर की तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि। निगम प्रशासन तथा महापौर निगम को संभाल पाने में अक्षम साबित दिखाई दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि निगम के इतिहास में पहली बार है कि सफाई कर्मचारियों को 15 दिन का वेतन लेने मजबूर होना पड़ा तथा उनके नेतृत्व करता को भी इस बात के लिए खुशी जाहिर ना करें। उन्होंने कहा कि निगम कर्मचारी किसी भी विभाग का क्यों ना हो एक निश्चित तारीख पर उन्हें वेतन मिलना चाहिए। यह पहली बार है कि निगम आयुक्त नियम कानून को दरकिनार कर जिस कर्मचारी का पदोन्नत होना था उसे सिर्फ आपका मामला न्यायालय में चल रहा है कहकर पदोन्नति नहीं दिया वहीं दूसरी तरफ निगम के  दूसरी कर्मचारी जिसका मामला न्यायालय में है। जो पदोन्नति नहीं चाहते हैं उसे जबरदस्ती पदोन्नति किया गया। ठेके के वार्ड में काम करने वाले सफाई कर्मचारी को 5000 रुपया वेतन। देना मतलब ठेकेदार उनके अधिकारों का हनन करना है। निगम अधिकारी और महापौर को इस पर तत्काल निर्णय लेना चाहिए वहीं दूसरी तरफ निगम गेट के सामने जो कर्मचारी अपने अधिकारों के लिए आमरण अनशन कर रहे हैं जबकि उनके द्वारा 15 दिन पहले ही निगम प्रशासन महापौर सब को अवगत कराया था । परंतु इस को नजरअंदाज किया गया। जिसके कारण कर्मचारी को मजबूरी में आमरण अनशन पर बैठना पड़ा इसके लिए भी निगम प्रशासन जिम्मेदार है।
श्री वर्मा ने आगे कहा कि निगम के किसी भी कर्मचारी को जो तीन महीना कार्य करने के बाद 15 दिन का वेतन देना उनके अधिकारों का हनन करना है।

राजनांदगांव से दीपक साहू

Advertisement

ताज़ा खबरे

Video News

error: \"छत्तीसगढ़ 24 न्यूज़\" के कंटेंट को कॉपी करना अपराध है।