छत्तीसगढ़ में बिना मोदी के नहीं हिल रहा पत्ता – सुजीत दत्ता

➡️ नवगठित साय सरकार सेल्फ निर्णय लेने में असफल दिख रहा, ट्रिपल एस मुख्यमंत्री होने का क्या मतलब ❓

राजनांदगांव :  प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व सदस्य तथा वरिष्ठ कांग्रेस नेता सुजीत दत्ता “बापी”  ने छत्तीसगढ़ की राजनीति पर बड़ा सवाल उठाते हुए कहा कि नवगठित भाजपा सरकार स्व निर्णय लेने में असफल साबित हो रही है बात-बात के लिए केंद्र सरकार का मुंह ताकना विष्णु देव सरकार के लिए आदत बन रही है यहां अभी से बिना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्णय के पत्ता भी नहीं गिर रहा है मंत्रिमंडल गठन के बाद विभागों का बंटवारा इसका सबसे बड़ा उदाहरण है इतना ही नहीं चुनाव पूरा किए गए वादों को निभाने में देरी अनावश्यक देरी की जा रही है जिससे छत्तीसगढ़ की जनता का भरोसा भाजपा सरकार पर से उठने लगा है।

किसानों को 3100 रुपये क्विंटल धान भुगतान के लिए सरकार का मुंह ताकना पड़ रहा है महिलाओं को 1000 रुपये महीना के लिए अमावस्या ग्रुप से इंतजार कराया जा रहा है जबकि सरकार गठन के बाद योजनाएं तुरंत लागू हो जानी चाहिए पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार ने सत्ता पर विराजमान होते ही सबसे पहले किसानों का कर्ज माफ किया था जिससे किसानों में प्रसन्नता व्याप्त हो गई थी और भूपेश सरकार पर शुरू से ही भरोसा बढ़ गया था लेकिन चुनाव के दौरान भाजपा ने जनता को बरगलाकर कांग्रेस को सट्टा मुक्त कर दिया हालांकि कांग्रेस जनादेश का सम्मान करती है।

श्री दत्ता ने आगे कहा कि छत्तीसगढ़ में भाजपा ने उपमुख्यमंत्री चयन की नई परंपरा शुरू की है। उसका भी कोई मतलब निकलते नहीं दिख रहा है एक मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री होने का मतलब है योजनाओं का क्रियान्वयन शीघ्रता से और व्यापक रूप से होकर जनता को अधिकार अधिक लाभ मिले लेकिन तीन-तीन मुख्यमंत्री रखे जाने का कोई औचित्य ही नहीं निकल रहा है सिर्फ पद की शोभा बढ़ा रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश की ग्रहणियों को 500 रुपये प्रति सिलेंडर रसोई गैस देने का वादा शुरू से ही नहीं निभा रही है कितने ही गरीबों के घर के गैस सिलेंडर गैस की महंगाई की वजह से महीनों से खाली पड़े हैं शहर के गरीब हो या गांव के उन्हें लकड़ी चुनने जंगलों में छुरमोटो के बीच जाना पड़ रहा है जहां जंगली जानवरों और जीव जंतुओं के हमले का खतरा होने के साथ-साथ अन्य प्रकार के दुर्घटना घटित होने के आशंका बढ़ गई है।

भाजपा को अपने झूठ का खामियाजा लोकसभा चुनाव में भुगतना ही पड़ेगा। उन्होंने आगे कहा कि धर्म के नाम पर दुकानदारी चलाने वाली भाजपा में राम मंदिर के उद्घाटन के लिए हड़बड़ी कर रही है मुहूर्त भी नहीं देख रही है जबकि रामनवमी को उद्घाटन करना चाहिए था 22 जनवरी को उद्घाटन इसलिए कर रही है कि लोकसभा चुनाव में किसका इसका ज्यादा से ज्यादा लाभ उन्हें मिल सके लेकिन देश की जनता समझदार है वह बार-बार उनके झांसे में नहीं आने वाली है।

राजनांदगांव से दीपक साहू की रिपोर्ट

Chhattisgarh24News.Com के व्हाट्सएप चैनल को फॉलो करना न भूलें 👇

 https://whatsapp.com/channel/0029Va4mCdjL7UVLuM2mkj0Q 
ताज़ा खबरे

Video News

NEWS

error: \"छत्तीसगढ़ 24 न्यूज़\" के कंटेंट को कॉपी करना अपराध है।