सोम प्रदोष व्रत को करने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं, जानें शुभ मुहूर्त और महत्व

मार्गशीर्ष माह:  पहला प्रदोष व्रत कृष्ण पक्ष में सोमवार को पड़ने के कारण सोम प्रदोष व्रत है. हर माह की त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत रखा जाता है. इस दिन प्रदोष काल के मुहूर्त में भगवान महादेव की विधिपूर्वक पूजा अर्चना करते हैं. सोम प्रदोष व्रत को करने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं और अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं. केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय पुरी के ज्योतिषाचार्य डॉ. गणेश मिश्र जी से जानते हैं सोम प्रदोष व्रत की तिथि और शिव पूजा का प्रदोष काल मुहूर्त।

सोम प्रदोष व्रत 2022 तिथि
आपको बता दे की पंचांग के अनुसार, मार्गशीर्ष माह के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि का प्रारंभ 21 नवंबर दिन सोमवार को सुबह 10 बजकर 07 मिनट पर हो रहा है. इस तिथि का समापन अगले दिन 22 नवंबर मंगलवार को सुबह 08 बजकर 49 मिनट पर हो रहा है. 21 नवंबर को प्रदोष व्रत की पूजा के लिए शुभ मुहूर्त शाम को प्राप्त हो रहा है, इसलिए सोम प्रदोष व्रत 21 नवंबर को रखा जाएगा. इस वत में प्रदोष काल का मुहूर्त बहुत महत्वपूर्ण होता है।

सोम प्रदोष व्रत 2022 पूजा मुहूर्त
21 नवंबर को सोम प्रदोष व्रत की पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 05 बजकर 25 मिनट से लेकर रात 08 बजकर 06 मिनट तक है. जो लोग सोम प्रदोष व्रत रखेंगे. उनको इस समय में भगवान शिव की पूजा अर्चना कर लेनी चाहिए।

आयुष्मान योग में है सोम प्रदोष व्रत
सोम प्रदोष व्रत के दिन आयुष्मान योग बन रहा है. इस दिन सुबह से लेकर रात 09 बजकर 07 मिनट तक आयुष्मान योग है. पूजा पाठ और भी मांगलिक कार्यों की दृष्टि से आयुष्मान योग शुभ होता है. इस व्रत से प्राप्त किया गया पुण्य फल और  पूरे जीवन में सुख संवृद्धि प्रदान करता है. इस दिन रात 09:07 बजे से सौभाग्य योग शुरू हो जाएगा।

Advertisement

ताज़ा खबरे

Video News

NEWS

error: \"छत्तीसगढ़ 24 न्यूज़\" के कंटेंट को कॉपी करना अपराध है।