असम के कलाकारो ने दी ‘बागदोई शीखला’ नृत्य की प्रस्तुति

लोक कलाकार असम के बागदोई शीखला नृत्य प्रस्तुत कर रहे हैं। बोड़ो जनजाति कृषि आधारित विषय पर करते हैं।

लोक कलाकार असम के बागदोई शीखला नृत्य प्रस्तुत कर रहे हैंबाग दोई शीखला तीन शब्दों के मेल से बना है जिनमें ’’बाग’’ का अर्थ ’’वायु”, “दोइ’’ का अर्थ “जल” एवं “शिख ला” का अर्थ “युवती” होता है। यह बोड़ो जनजाति का लोकनृत्य है, इसे पीढ़ी दर  पीढ़ी बोड़ो जनजाति द्वारा प्रस्तुत किया जाता रहा है और इससे संबंधित संस्कारों को आगे बढ़ाया जा रहा हैं।

बोड़ो जनजाति कृषि आधारित विषययह नृत्य खास मौसम परिवर्तन पर प्रस्तुत किया जाता है। बैशाख के माह में यह नृत्य उत्सव करने प्रथा रही है। असम का यह लोकनृत्य जल और वायु के देवता की अराधना और भक्ति का प्रतीक है।

Advertisement

ताज़ा खबरे

Video News

NEWS

error: \"छत्तीसगढ़ 24 न्यूज़\" के कंटेंट को कॉपी करना अपराध है।