12 साल के नाबालिग समीर हत्याकांड मामले में 2 नाबालिग आरोपी गिरफ्तार

दुर्ग : रुदा गांव में समीर हत्याकांड में बड़ा खुलासा हुआ है। पड़ोस के ही नाबालिग दोस्तों ने समीर की हत्या की थी। पुलिस के अनुसार समीर के दोस्त उससे चिढ़ते थे, और रोज-दिन उनका समीर से झगड़ा होता था। अब 2 नाबालिग आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। इससे पहले पुलिस ने तंत्र-मंत्र के लिए हत्या किए जाने का संदेह जाहिर करते हुए पड़ोसियों से पूछताछ की थी।

दोनों नाबालिग आरोपी समीर साहू के साथ रोज खेलते थे, समीर कबड्डी खेलने के दौरान अच्छा रेड करता था, और इन दोनों से अक्सर गाली-गलौज करता था। और 19 अक्टूबर को दोनों आरोपी एक-साथ मिलकर समीर की हत्या करने की प्लानिंग बनाकर गांव के किराना स्टोर्स से बोरा सिलने की रस्सी, सूजा और बोरे का इंतजाम किया। फिर 23 अक्टूबर की शाम को कबड्डी खेलने के बाद दोनों ने समीर साहू को गांव की नर्सरी के तरफ ले गए, वहां सुनसान जगह में पहले मुंह और नांक दबाया फिर सिर पर पत्थर से हमला करके मार डाला।

नाबालिग दोस्तों ने समीर की हत्या करके रस्सी से मृतक बालक के हाथ-पैर बांध कर प्लास्टिक के बोरे में भरा और नर्सरी के पास फेककर अपने-अपने घर चले गए थे। अगले दिन जानकारी मिलने पर पुलिस को घटना में उपयोग किए गए पत्थर और सूजा को शव के साथ जब्त किया था।

एसपी अभिषेक पल्लव ने बताया की, ग्राम रुदा निवासी समीर साहू पिता खिलेश्वर साहू (12वर्ष) 23 अक्टूबर की शाम से खेलने के बाद वापस घर नहीं पहुंचा था। देर शाम तक घर वालों ने उसकी खोज की,लेकिन जब वह कहीं नहीं मिला तब थाने में परिजनों ने शिकायत दर्ज कराई थी । 24 अक्टूबर की सुबह नदी के किनारे खेत के मेड़ के पास प्लास्टिक की एक बोरी में समीर का शव मिला था। जिस पर पुलिस ने परिजनों को बुलाकर समीर साहू की पहचान कराई गई थी।

इस मामले की गंभीरता को देखते हुए गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ने पुलिस अधिकारियों को जमकर फटकार लगाते हुए कहा कि, आरोपियों को जल्द से जल्द गिरफ्तारकी जाए, नहीं तो वो उनके खिलाफ सख्त एक्शन लेंगे। जिसके बाद क्राइम ब्रांच अंडा थाने में जुटी हुई थी। जहां पुलिस ने एक अस्थाई पुलिस का बेस कैंप बना लिया था। पुलिस की डॉग स्क्वायड टीम ने मौके पर जांच की, लेकिन कुछ ठोस पता नहीं चल सका था।

Advertisement

ताज़ा खबरे

Video News

NEWS

error: \"छत्तीसगढ़ 24 न्यूज़\" के कंटेंट को कॉपी करना अपराध है।