भारत जोड़ो यात्रा “नफरत छोड़ो भारत जोड़ो” का संदेश देश को देने में सफल।

भारत जोड़ो यात्रा “नफरत छोड़ो भारत जोड़ो” का संदेश देश को देने में सफल।

एम सी बी राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा की कल वर्षगांठ मनायेंगे।देश के वर्तमान हालात में जब क्षेत्रियता, धर्म, सांप्रदायिकता के नाम पर देश की सत्ता में बैठे हुये लोग राजनीति कर रहे है वैसे में कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा देश के लोगों के सामने एक नई उम्मीद लेकर आई थी।जब देश चलाने वाली दल सत्ताधीश और हुक्मरान आम आदमी की जरूरतों शिक्षा, रोजगार को परिदृश्य पीछे धकेल कर धार्मिक आधार पर ध्रुवीकरण की राजनीति को बढ़ावा दे रहे हो तब उस समय कांग्रेस जैसी जन सरोकारी वाली पार्टी का यह नैतिक और राजनैतिक कर्तव्य हो जाता है कि वह देश को बचाने देश की एकता और अखंडता को बचाने के लिये भारत जोड़ो जैसा महाअभियान चलाये भारत जोड़ो यात्रा का यही उद्देश्य था।
उक्त बातें जिला मुख्यालय मनेंद्रगढ़ के विश्राम गृह में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान कांग्रेस के जिला अध्यक्ष अशोक श्रीवास्तव ने कही।इस अवसर पर विधायक डा. विनय जायसवाल, वरिष्ठ कांग्रेसी रमेश चंद्र सिंह,ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राजेश शर्मा, कांग्रेस नेता राम अवतार अलगमकर, व्यंकटेश सिंह, सौरभ मिश्रा, पार्षद अनिल प्रजापति,संतोष अग्रवाल समेत अन्य कांग्रेसी कार्यकर्ता काफी संख्या में मौजूद रहे।पत्रकारों से चर्चा करते हुए कांग्रेस कमेटी के जिला अध्यक्ष अशोक श्रीवास्तव ने कहा कि पिछले साल 7 सितंबर 2022 को हमारे नेता राहुल गांधी ने ऐतिहासिक भारत जोड़ो यात्रा शुरू की थी,जो भारत के किसी भी राजनेता द्वारा अब तक की सबसे लंबी पदयात्रा है। 4,081 किलामीटर, 12 राज्यों और 2 केंद्र शासित प्रदेशों 75 जिलों और 76 लोकसभा क्षेत्रों की 136 दिनों की यात्रा ने लोगों के मन पर एक अमिट छाप छोड़ी है।लाखों लोग प्रेम और एकता के साथ धर्म, समुदाय, जाति आदि की परवाह किए बिना हर भारतीय को एकजुट करने की राहुल की अटूट भावना से मंत्रमुग्ध थे। उनकी यह विचारशील पहल समय की मांग थी, जिसने मूल रूप से हमारे देश में राजनीति की दिशा बदल दी। विशेष रूप से यात्रा के बाद कर्नाटक का चुनाव परिणाम, काग्रेस पार्टी को सत्ता में वापस लाने की लोगों की सामूहिक इच्छा की एक उत्कृष्ट अभिव्यक्ति थी।विधायक डॉ विनय जायसवाल ने कहा कि राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा देशवासियों के जख्मों पर मरहम थी। जिन राज्यों से यह यात्रा गुजरी वहां के नागरिकों ने महंगाई, बेरोजगारी, भुखमरी, किसानों की बदहाली जैसे मुद्दो पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष के द्वारा चलाई जा रही मुहिम को पूरा समर्थन दिया। लोग राहुल गांधी से मिलने के लिये उतावले रहते थे। हजारो लोग पैदल चलते तथा रास्ते में घरों की छत पर खड़े होकर स्वागत करने को तत्पर रहते थे।यह राहुल गांधी और कांग्रेस के प्रति लोगों के प्यार और समर्पण की अभिव्यक्ति थी ।


ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राजेश साहू ने कहा कि भारत जोड़ो यात्रा के दौरान, देशभर में राहुल जी ने 100 से अधिक बैठक समूह बातचीत, 275 योजनाबद्ध पैदल बातचीत, 100 छोटी सभाएं 13 विशाल सार्वजनिक सभाएं, 12 प्रेस कांफ्रेंस और अनगिनत आम बैठकों के माध्यम से हमारे करोड़ों साथी देशवासियों के साथ अपने विचारों का आदान-प्रदान साझा किया था। यात्रा ने देश के ज्वलंत मुद्दों को संबोधित किया।जिनमें कमरतोड़ महंगाई, अभूतपूर्व बेरोजगारी भाईचारा, विभाजनकारी राजनीति, चीनी आक्रमकता से राष्ट्रीय सुरक्षा को ख़तरा शामिल है।भारत के विचार को बचाने के लिए राहुल का धैर्य और दृढ़ संकल्प भाजपा को बेचैन कर रहा है और लोकतंत्र की भावना को बहाल कर रहा है। हमारा दृढ विश्वास है कि यात्रा का यह प्रभाव आगामी सभी राज्य स्तरीय और केंद्र चुनावों पर अपना प्रभाव दिखाना जारी रखेगा और हमारी सबसे पुरानी कांग्रेस पार्टी के गौरव को बहाल करने का मार्ग प्रशस्त करेगा।वरिष्ठ कांग्रेसी अधिवक्ता रमेश सिंह ने कहा कि राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा ने देश के आम आदमी की समस्याओं को आवाज दिया है। देश में बढ़ती महंगाई, बेरोजगारी, किसानों की समस्या, सामाजिक वैमनस्यता के खिलाफ देश की जनता में जनजागरण पैदा किया।भारत जोड़ो यात्रा कन्याकुमारी से लेकर कश्मीर तक भारत के जनमन में रच बस गयी है। सारा भारत अपनी तकलीफों के निदान को लेकर एकजुट हो गया है।भारत जोड़ो यात्रा देश के लोगो मे उम्मीद की नई किरण लेकर पैदा हुई है।राहुल गांधी प्रेम उम्मीद और सद्भावना के नये बीज बोते चल रहे थे।देश की जनता ने राहुल गांधी की पदयात्रा को हाथों हाथ लिया था। राहुल गांधी की पदयात्रा से विघटनकारी ताकतों के हौसले पस्त हुए हैं। देश के लोकतंत्र के लिए शुभ संकेत है कि अराजक तत्व भारत की अनेकता में एकता के मूल मंत्र के सामने घुटने टेकने को विवश हुए है। यह राहुल गांधी की यात्रा की बड़ी सफलता है।

वरिष्ठ कांग्रेसी रामअवतार अलगमकर ने कहा कि देश की एकता, अखण्डता, संविधान और लोकतंत्र की रक्षा के लिए कांग्रेस प्रतिबद्ध हैं। जनाधिकार की लड़ाई लड़ने के लिए कांग्रेस पार्टी आजादी के पहले से ही सत्याग्रह को एक मजबूत हथियार मानती है और भारत जोड़ो पदयात्रा आजादी के बाद देश का सबसे विशाल और परिवर्तक सत्याग्रह साबित हुआ।राष्ट्रपिता महात्मा गांधी सहित कांग्रेस पार्टी के कई नेताओं ने देश में सत्याग्रह के द्वारा जनता के महत्वपूर्ण मसलों को हल किया है।यह सत्याग्रह उस विचारधारा को उखाड़ फेंकेगा जो मृत्यु के समय भी राम का नाम लेने वाले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे को आदर्श मानता है।आज बर्बादी और वैमनस्यता की ओर बढ़ते देश को भारत जोड़ों पदयात्रा की जरूरत है।
युवा कांग्रेसी नेता व्यंकटेश सिंह ने कहा कि भारत जोड़ो यात्रा का ही परिणाम है कि देश में नफरत के भाव खत्म हुए हैं,मॉब लीचिंग जैसी घटनाएं रुकी है।रसोई गैस के दाम कम करने मजबूर हुई। किसान, युवा, माता-बहनें, पत्रकार मोदी सरकार के जनविरोधी नीतियों के खिलाफ सीना ठोक कर खड़े हुए हैं। डर, भय का वातावरण खत्म हुआ है।

Chhattisgarh24News.Com के व्हाट्सएप चैनल को फॉलो करना न भूलें 👇

 https://whatsapp.com/channel/0029Va4mCdjL7UVLuM2mkj0Q 
ताज़ा खबरे

Video News

NEWS

error: \"छत्तीसगढ़ 24 न्यूज़\" के कंटेंट को कॉपी करना अपराध है।