छत्तीसगढ़ में तीन चरणों में “सघन मिशन इंद्रधनुष” व्यापक टीकाकरण अभियान

छत्तीसगढ़ में अगस्त से “सघन मिशन इंद्रधनुष” व्यापक टीकाकरण अभियान
कोई बच्चा ना छूटे
रायपुर 3 अगस्त 2023:  संपूर्ण टीकाकरण बच्चों के लिए एक वरदान की तरह है, इसी क्रम की निरंतरता को बनाये रखते हुए, वो बच्चे जो पूर्व के अभियान में किसी न किसी कारणवश छूट गए थे, उन्हें सम्पूर्ण टीकारण के लक्षित लक्ष्य के दायरे में लाने के लिये, अगस्त से पूरे छत्तीसगढ़ में “सघन मिशन इंद्रधनुष” व्यापक टीकाकरण अभियान (आईएमआई 5.0) शुरू किया जाना प्रस्तावित है। इस महती मिशन का लक्ष्य राज्य में पांच साल से कम उम्र के उन सभी बच्चों को संपूर्ण टीकाकरण के दायरे में लाना है, जो टीकाकरण से चूक गए हैं या छूट गए हैं।
इस अभियान को बढ़ावा देने के लिए, छत्तीसगढ़ सरकार के स्वास्थ्य विभाग और यूनिसेफ के संयुक्त तत्वाधान में क्षमता-निर्माण कार्यशाला का आयोजन किया गया, जिसका मुख्य उद्देश्य छत्तीसगढ़ के मीडिया कर्मियों को उत्प्रेरक के रूप में योगदान करने के लिए सशक्त बनाना है।

डॉ. सुभाष मिश्रा, राज्य महामारी नियंत्रण निदेशक ने इस संदर्भ में अपने विचारों को प्रस्तुत करते हुए कहा कि, “इंद्रधनुष कैच-अप अभियान में अगस्त से अक्टूबर महीनों में छत्तीसगढ़ के 33 जिलों के हर गांव में चरणबद्ध क्रम से 5 वर्ष से कम उम्र के सभी बच्चों को समायोजित करेगा।” अभियान का मुख्य उद्देश्य, 5 वर्ष से कम उम्र के सभी बच्चों के लिए एमआर (खसरा और रूबेला) टीकाकरण की उपलब्धता सुनिश्चित करना है।
जॉब जकारिया, छत्तीसगढ़ के यूनिसेफ प्रमुख ने मिशन इंद्रधनुष विषय पर आयोजित मीडिया कार्यशाला में बोलते हुए, कहा कि पिछले 15 वर्षों में राज्य में टीकाकरण दर में लगातार वृद्धि हुई है, “छत्तीसगढ़ में पूर्ण बाल टीकाकरण दर 2006 में 49% से बढ़कर 80 हो गई है। एनएफएचएस 5 के अनुसार 2021 में %।” सम्पूर्ण टीकाकरण सुनिश्चित करके ही बच्चों के असामयिक मृत्यु को रोका जा सकता है।साथ ही, यह बच्चों को 12 तरह की बीमारियों और विकलांगता से बचाता है।
टीकाकरण के बारे में जनसामान्य में प्रेषित धारणाओं और मिथकों को न्यून करने और इसे जन जन तक पहुंचाने के लिए मीडिया का समर्थन मांगा।
भगत (एसईपीआईओ – राज्य सरकार) ने विषय के मूल्यांकन को रेखांकित करते हुए कहा कि, हर बच्चा जो 0-5 वर्ष के मध्य है, ऐसे बच्चों की लाइन लिस्टिंग पूरी कर ली गई है ताकि कोई भी बच्चा अभियान से छूट न जाए।
आईएमआई को देशभर में तीन चरणों में लॉन्च किया जा रहा है, पहला चरण  21-26 अगस्त तक, दूसरा दूसरा चरण-20 – 26 सितंबर तक और तीसरा चरण 25 – 31अक्टूबर तक। भारत में पूर्ण टीकाकरण दर 76.4% है, जबकि एनएफएचएस 5 के अनुसार यह 79.7% है।
भारत सरकार और छत्तीसगढ़ सरकार 2023 तक खसरा रूबेला के उन्मूलन के लिए प्रतिबद्ध है और इसके तदनुसार हर कर्म पर इसे संपूर्णता से अमल में लाने के लिए हर मुमकिन प्रयास किए जा रहे हैं।
इस संदर्भित विषय के व्यापक कार्यों को आईएमआई के अन्तर्गत रिपोर्टिंग यू-विन के माध्यम से पूर्ण किया जाएगा। लक्षित टीकाकरण अभियान के तहत वास्तविक समय में आंकलन एवं अंकेक्षण डेटा की कार्य योजना और क्रियान्वयन के में मदद करेगा। यू-विन, को-विन के समान एक ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म है, जिसमें लाभार्थी यूनिवर्सल टीकाकरण कार्यक्रम के तहत प्रदान किए जाने वाले टीकाकरण के लिए पंजीकरण कर सकते हैं, साथ ही लाभार्थी आवश्यकता पड़ने पर टीकाकरण के बाद प्रमाण पत्र डाउनलोड कर सकते हैं।
इसी क्रम में, यह सूचित किया गया कि, यह अभियान, राज्य में तीन चरणों मे इसे लागु किया जाएगा।
इसी संदर्भ में, राज्य स्तरीय कार्यशाला में विभिन्न जिलों के मीडिया प्रतिभागियों ने सक्रिय रूप से भाग लिया।
अभियान की महत्ता को सम्पूर्ण रूप से पूर्णतः समयोजित करने के लिए, डॉ परनीत एसआरटीएल डब्ल्यूएचओ, अंशुमन राज्य कार्यक्रम अधिकारी यूएनडीपी, स्वास्थ्य सलाहकार, यूनिसेफ संचार सलाहकार और अन्य भागीदारों ने कार्यशाला को सफल बनाया और भाग लेने वाले पत्रकारों के बीच इंटरैक्टिव चर्चा को बढ़ावा दिया।

KARAN SAHU
KARAN SAHU
करन साहू कार्यक्षेत्र - पाटन ( छ.ग. ) "छत्तीसगढ़ 24 न्यूज़"

Advertisement

ताज़ा खबरे

Video News

NEWS

error: \"छत्तीसगढ़ 24 न्यूज़\" के कंटेंट को कॉपी करना अपराध है।