*कांग्रेस के घोषणा पत्र, चिटफंड कंपनियों से जमा निवेशकों को पैसा वापसी – श्रीकिशन खंडेलवाल*

*▶️ कका है तो भरोसा है*

*राजनांदगांव ।* जिला सहित पूरे छत्तीसगढ़ राज्य में चिटफंड कंपनियों की झांसे में आकर छत्तीसगढ़ के मेहनत मजदूर, किसान, युवा, शिक्षित सभी वर्गों ने अपनी गाड़ी कमाई की पैसे को चिटफंड कंपनियों में जमा किए थे। किंतु पर्याप्त समय होने के बाद भी जमा निवेशकों को राशि वापसी नहीं हुआ था। इसी प्रकार कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व खादी ग्रामोद्योग बोर्ड के सदस्य श्रीकिशन खंडेलवाल ने आम जनता को आग्रह करते हुए कहा कि किसी भी चिटफंड कंपनीयों में अपनी मेहनत की गाढ़ी कमाई को जमा ना करें। ऐसे चिटफंड कंपनियों से सावधानी बरतते हुए लोगों को सावधानी के लिए ध्यान दिलाएं तथा 15 साल के भाजपा सरकार में चिटफंड कंपनियों की संख्या बढते व काफी फल-फूल रहे थे। और 15 सालों में पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह चिटफंड कंपनियों को फलने फूलने दिया। लेकिन 15 साल के भाजपा सरकार ने कभी रोक-टोक नहीं किए। जिसके कारण छत्तीसगढ़ के भोले भाले गरीब आम जनता चिटफंड कंपनियों के झांसे पर आकर पैसे जमा किए हैं। कांग्रेस सरकार ने घोषणा पत्र के अनुरूप चिटफंड कंपनियों से जमा निवेशकों को वापस पैसा दिलाने का भरोसा दिलाया था। वह भरोसा को प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ के चिटफंड कंपनियों से जमा निवेशकों को वापस दिलाया जा रहे हैं। छत्तीसगढ़ की इस चिटफंड कंपनियों से पैसा वापसी की सफलता को देखते हुए केंद्र की सरकार ने भी सहारा ऐप बनाकर पैसा वापस करने की बात कही है।
श्री खंडेलवाल ने आगे कहा कि छत्तीसगढ़ के आम जनता, गरीब, मजदूर, युवा, बेरोजगार, व्यापारी सभी वर्गों को साथ में लेकर चलने वाले कांग्रेस के भूपेश बघेल सरकार हमेशा सहयोग कर रहे हैं। और भविष्य में भी करते रहेंगे इसलिए छत्तीसगढ़ के आम जनता कहते हैं। कका है तो भरोसा है। उन्होंने राजनांदगांव जिला सहित प्रदेश वासियों को किसी भी चिटफंड कंपनी या अन्य कोई भी अनजान व्यक्ति या जाना पहचाना व्यक्ति आपको अपने भविष्य के बारे में चिंता व्यक्त करते हुए कहते हैं। अपने बुढ़ापे के साथी कंपनियों में पैसा जमा करें  ऐसे कंपनी व्यक्तियों से दूर रहें तथा नजदीकी पुलिस स्टेशन पर तत्काल जानकारी देवें

राजनांदगांव से दीपक साहू की रिपोर्ट

Advertisement

ताज़ा खबरे

Video News

NEWS

error: \"छत्तीसगढ़ 24 न्यूज़\" के कंटेंट को कॉपी करना अपराध है।